Local kalakar

आखिरी खत

सब कुछ जो कहना है मुझको मैं तुमको कहना चाहता हूं

सब छोड़ बैर भाव तुमसे एक आखिरी खत लिखना चाहता हूं

मैं शुरू करूं क्या बात कहूं कुछ भी ना समझ में आए है

तुमसे रहकर दूर मुझे हालात समझ में आए है

जज्बातों को अल्फ़ाजो में कैसे मैं बयां करूं बता

जिस इश्क़ की कसमें खाते थे उस इश्क़ का ही नहीं पता

मैंने रोका था टोका था फिर झोंका था इश्क़ में खुद को तेरे

तू बेमतलब कोई बात बिना ठुकरा के गई इश्क़ को मेरे

मैं आज वो ही जज्बात तुम्हें याद दिलाना चाहता हूं

सब छोड़ बैर भाव तुमसे एक आखिरी खत लिखना चाहता हूं

Next Post

Previous Post

Leave a Reply

© 2024 Local kalakar

Theme by K Techno